RBI-सरकार के बीच महंगाई के आंकड़ों पर टकराव

व्यापार

 

रिजर्व बैंक और केंद्र सरकार के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. बुधवार को आरबीआई के मौद्रिक नीति समीक्षा के ऐलान के बाद मतभेद सामने आ गए. बैंक ने महंगाई बढ़ने की आशंका के चलते रेपो रेट में बदलाव नहीं किया. दरें ना घटने से वित्त मंत्रालय के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम निराश नजर आए.

उन्होंने कहा है कि महंगाई पूरी तरह कंट्रोल में है और महंगाई को आरबीआई कुछ ज्यादा ही बढ़ाचढ़ाकर पेश कर रहा है. हालांकि अरविंद सुब्रमण्यम ने आरबीआई की अगली क्रेडिट पॉलिसी में दरों में कटौती की उम्मीद जताई है.

इससे पहले रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने पत्रकारों को बताया कि मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) के सदस्‍यों ने वित्‍त मंत्रालय की बैठक में जाने से इनकार कर दिया था. पटेल ने बताया, 'जहां तक वित्त मंत्रालय द्वारा एमपीसी सदस्यों को बैठक के लिए दिए गए आमंत्रण का सवाल है. तो एमपीसी के सभी सदस्यों ने वित्त मंत्रालय के अनुरोध को ठुकरा दिया.' हालांकि पटेल ने यह नहीं बताया कि वित्त मंत्रालय से यह आमंत्रण कब मिला था.

पटेल से पूछा गया कि क्या मंत्रालय ने आरबीआई की स्वतंत्रता और स्वायत्तता पर हमला किया था. इस पर उनका जवाब था, 'समिति ने इस आमंत्रण को स्वीकार नहीं किया.' बता दें कि वित्त मंत्रालय में एक मॉनिटरी पॉलिसी ग्रुप बना है और इसमें वित्त मंत्रालय के बड़े अफसर शामिल किए गए हैं.
 


Comment






Total No. of Comments: